संदेश

July, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जुडवांबच्चों वाला गांव

चित्र
भारत के इस गांव में है 350 By khaskhabar, 21 Nov 2014 प्रस्तुति- हुमरा असद By khaskhabar, 21 Nov 2014

दूसरी बीबी से ही होते है बच्चे

चित्र
प्रस्तुति-  प्रियदर्शी किशोर, राहुल मानव


बाड़मेर। राजस्थान में बाड़मेर जिले के एक गांव में हर परिवार में दूसरी पत्नी से ही संतान होने का अजीब संयोग जुड़ा है। जिला मुख्यालय से अट्ठाइस किलोमीटर दूर गड़रा सड़क मार्ग स्थित देरासर ग्राम पंचायत के अल्पसंख्यक बाहुल रामदियों की बस्ती में 70 मुस्लिम परिवार है।

गांव के हर परिवार में हर युवक ने दो-दो निकाह किए हैं। मुस्लिम परिवारों में दो निकाह आश्चर्य का कारण नहीं है लेकिन इस गांव के लोगों द्वारा दूसरा निकाह करने के पीछे जो कारण है वह आश्चर्यजनक है। गांव के किसी भी परिवार में पहली शादी के बाद किसी के भी संतान नहीं है लेकिन दूसरी शादी के बाद सभी के घर में संतानें हुई हैं।

एक दो परिवारों में ऐसा हो तो उसे संयोग ही कह सकते है लेकिन हर व्यक्ति के दूसरी शादी के बाद ही संतान होना किसी आश्चर्य से कम नहीं है। गांव के बुजुर्ग 65 साल के आरब खान बताते हैं कि गांव के साथ यह संयोग कई वाकयों से जुड़ा है। गांव के लाला मीठा के कई सालों तक संतान नही हुई।

परिजनों ने कई बार उस पर दूसरा निकाह करने के लिए दबाव डाला लेकिन मीठा ने साफ इंकार कर दिया। लगभग…

गोपाल दास ‘नीरज’ के फिल्मी गीत

चित्र
सामाजिक मूल्य और ‘नीरज’ के फिल्मी गीत डॉ. राजकुमारी शर्मा


प्रस्तुति-हुमरा असद  ‘मूल्य’ समाज व व्यक्ति के जीवन में अह्म भूमिका निभाते हैं। ‘मूल्य’ शब्द अंग्रेजी शब्द ‘वैल्यू" के पर्याय के रूप में ग्रहण किया जाता है। प्रतिदिन के व्यवहार में ‘मूल्य’ शब्द का प्रयोग विभिन्न अर्थों में किया गया है जैसे ‘मूल्य’ शब्द ‘कीमत’ के अर्थ में या विशिष्ट अर्थ में यथा नैतिक मूल्य, आर्थिक मूल्य, सौंदर्यशास्त्रीय मूल्य, धर्मिक मूल्य या सामाजिक मूल्य के अर्थ में बोध कराता है। मनुष्य सामाजिक प्राणी है अतः सामूहिक चेतना, पारस्परिक व्यवहार, विचार-विनिमय एवं अन्य कार्यों में मूल्य बोध की जानकारी होना अत्यावश्यक है। समाज में अनेक नियमों की अवधरणा है जो समाज के अधिकतर व्यक्तियों को स्वीकार करना पड़ता है। वही नियम आगे चलकर मूल्य में परिवर्तित हो जाते हैं। फिल्मी गीत समाज एवं व्यक्ति के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। साहित्य में जो कुछ घटित होता है, उसका प्रभाव व्यक्ति और समाज पर पड़ता है। हिंदी फिल्मों का संगीत देश-विदेश दोनों जगहों पर सुना जाता है। …

व्यापम खेल का शिवराज

चित्र
'किलर' व्यापमं घोटाले की वो 10 सबसे अहम बातें जो आप जानना चाहेंगे Reported by NDTV.com , Edited by Rajeev Mishra , Last Updated: सोमवार जुलाई 6, 2015 03:13 PM IST
प्रस्तुति- राहुल मानव
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो) नई दिल्ली: व्यापमं घोटाला आजकल सुर्खियों में है। कारण है इससे जुड़े 35 लोगों की मौत जिसने मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार को आरोपों के घेरे में खड़ा कर दिया है। इस घोटाले पर 10 बिंदुओं में एक नजर -

1. इस घोटाले का पता 2013 में चला जब कुछ खबरें आईं कि घूस देकर मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन किया जा रहा है। आरोप यह लगा कि पैसे लेकर राजनेता, नौकरशाह और अन्य घूस लेकर परीक्षार्थी की जगह किसी ओर से परीक्षा दिलवाने का काम कर रहे हैं। इसी प्रकार अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रॉक्सी कैंडिडेटों ने परीक्षा दी और लोगों को डॉक्टर और टीचरों की सरकारी नौकरी मिली।

2.  व्यापमं का नाम मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल पर पड़ा है। यह वही संस्था है जो राज्य में इस प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं को कराने के लि…